What is IoT in Hindi | इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IoT) क्या है? | Tech Karya

By | September 2, 2020

हैल्लो आप सभी का Tech Karya में स्वागत है। आज हम बताने वाले है कि, इंटरनेट ऑफ थिंग्स या IoT क्या है (What is IoT in Hindi), How IoT works in hindi और इसके अन्य पूरी जानकारी के बारे में शेयर करने वाले हैं। यदि आप इंटरनेट ऑफ थिंग्स बारे में नहीं जानते है तो ये पोस्ट आपके लिए है इस पोस्ट (IoT kya Hai) के जरिये पूरी जानकारी हम विस्तृत रूप से बताने वाले हैं।

internet of things in hindi

आधुनिकता के इस दौर में टेक्नोलोजी और विज्ञान ने असीम तरक्की की हैं। कम्प्युटर, इन्टरनेट, टेक्नोलोजी, आधुनिक समाज में शायद ही कोई हो जो इन शब्दों से अनजान हो या इनके संबंध में नही जानता हो। टेक्नोलोजी और विज्ञान ने मानव जीवन को सुगम और सरल बना दिया हैं।

IoT (Internet of things) इसी का एक बेहतरीन उदाहरण हैं, इंटरनेट ऑफ थिंग्स ने दैनिक जीवन को अत्यधिक आसान एवं आरामदायी बना दिया है। IoT ने हमारे लिये आधुनिक तकनीकियों एवं उपकरणों का इस्तेमाल करके और भी अधिक आसान बना दिया हैं।

इन दिनों हम देखते है मॉल में हमारी एन्ट्री और एक्सिट करते वक्त दरवाजें स्वतः खुलते है एवं बंद हो जाते है। वातानुकूलित रूम की AC का स्वतः ऑन-ऑफ होना, कार की दरवाजों का स्वतः ओपन होना, यह सबकुछ ही हमारे लिये किसी आश्चर्य की तरह होता है।

लेकिन क्या हमने कभी यह सोचा की यह सब संभव कैसे है या वो कौन-सी टेक्नोलोजी है जिसके माध्यम से यह मुमकिन हुआ?

इसी आश्चर्यजनक टेक्नोलॉजी को IoT (इंटरनेट ऑफ थिंग्स) के नाम से जाना जाता है। इंटरनेट ऑफ थिंग्स विज्ञान का वह टेक्नोलॉजी है, जिसके माध्यम से कई टेक्नालजी एवं डिवाइसो को इन्टरनेट के माध्यम से आपस में जोड़ा जाता है। इस टेक्नोलॉजी में इंटरनेट सेंसर द्वारा डिवाइस को आपस में जोड़ा जाता हैं।

इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IoT) क्या है (What is Internet of Things in Hindi)

आईओटी (IoT) का फुल फॉर्म या इसका पूरा नाम इंटरनेट ऑफ थिंग्स (Internet of Things) है और इंटरनेट ऑफ थिंग्स को शॉर्ट में “IoT” कहते है। इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IoT) उन उपकरणों का एक समूह है जो इंटरनेट से जुड़े होते हैं। IoT उपकरणों में wireless senser, software, actuators और computer devices शामिल होते हैं। वे एक विशेष वस्तु से जुड़े होते हैं जो इंटरनेट के माध्यम से डाटा का ट्रान्सफर करते है।

आज टेक्नालजी के नये दौर में, IoT devices का इस्तेमाल हर दिन हमारे दैनिक जीवन मे किया जा रहा है। जैसे Smartphone, TV, Lights, AC, Doors, Cars इत्यादि IoT सेंसर द्वारा इस्तेमाल करते हैं। Amazon Echo, Ring Doorbell और Nest Thermostat ये सब आपके इस इंटरनेट ऑफ़ थिंग्स (IoT) का एक हिस्सा हैं। लेकिन यह सिर्फ IoT उपभोक्ता उत्पादों तक सीमित नहीं है बल्कि IoT तकनीक चिकित्सा क्षेत्र से लेकर कृषि उद्योग और दूसरे बड़े क्षेत्रों में इस्तेमाल हो रहा है। Gartner के अनुसार 2021 तक, इंटरनेट ऑफ थिंग्स को बनाने में 25 बिलियन तक उपकरण का निर्माण हो सकते हैं और 2023 तक, इसकी संख्या तीन गुना तक हो सकती हैं।

उदाहरण- आपकी कार में IoT सिस्टम द्वारा आगे आने वाले रास्ते मे ट्रैफ़िक की पहचान करता है और स्वचालित रूप से व्यक्ति को मैसेज भेजता है, जिससे आप अपना समय बचा सकते हैं। स्मार्ट माइक्रोवेव से, जो स्वचालित रूप से सही समय पर भोजन को पकाती हैं, सेल्फ-ड्राइविंग कार, जिनके जटिल सेंसर द्वारा उनके रास्ते में objects का पता लगाते हैं, पहनने योग्य फिटनेस devices जो आपकी हृदय गति को मापते हैं और उस दिन चले गये कदमों की संख्या, फिर इन सबकी जानकारी का उपयोग करके एक exercise plans के बारे मे सुझाव भी देता है। ये सब sensor की मदद से मुमकिन हो पाता हैं।

IoT काम कैसे करता है? (How IoT Works in Hindi)

इंटरनेट ऑफ थिंग्स को आधुनिक टेक्नोलॉजी द्वारा एडवांस बनाया जाता हैं। इंटरनेट ऑफ थिंग्स को इस्तेमाल के लिये computer और internet की सामान्य जानकारी होना आवष्यक है, क्योंकि यह एक नेटवर्किंग टेक्नोलोजी है। कोई भी व्यक्ति इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IOT) की सहायता से अपने घर की डिवाइसो को इंटरनेट की मदद से एक साथ कनेक्ट कर सकते है जिससे आप उन सब डिवाइसो को कही से भी नियंत्रण कर सकते हैं। इसका इस्तेमाल तब भी कर सकते है जब आपके mobile और devices के IP Address एक साथ उपकरण जुड़े हुए हों।

इसके इस्तेमाल करने के लिये उपकरणों को WiFi या Bluetooth के माध्यम से आपस में कनेक्ट किया जाता है। अब इन उपकरणों के बीच वायरलेस तकनीकी माध्यम से डाटा अथवा निर्देशों का आदान-प्रदान होता है। मशीन तकनीक अथवा कम्प्युटर प्रोग्रामिंग की मदद से इस तकनीकी को पुरी तरह ऑटोमेटिक भी किया जा सकता है, इसके लिये इसमे सेंसर का उपयोग किया जाता है।

उदाहरण- आप अपने घर में कंप्यूटर पर काम कर रहे है और किसी आपातकालीन परिस्थिती के कारण आपको बाहर जाना पड़ा, और इस जल्दबाजी में आप अपना कंप्यूटर बंद करना भुल जाते हैं। अपने घर से निकलने के कुछ समय बाद अचानक आपको याद आता है कि आप अपना कम्प्युटर बंद करना भुल गये है। इस परिस्थिती में इंटरनेट ऑफ थिंग्स आपके लिये एक उपयोगी तकनीक साबित हो सकती हैं। इंटरनेट ऑफ थिंग्स के माध्यम से आप जहां कहीं मौजुद हो वहां से अपने कम्प्युटर को शटडाउन कर सकते हैं।

इंटरनेट ऑफ थिंग्स तकनीक का आपातकालीन परिस्थितीयों में विशेष योगदान है। यदि किसी मरीज को हॉस्पिटल में लाईफ सपोर्टिंग सिस्टम पर रखा जाता है, और यदि अचानक मरीज का स्थिती बिगडने लगे तब इन परिस्थितीयों में मरीज की महत्वपूर्ण लक्षण को मॉनिटर करके किसी भी आपातकाल की सुचना तुरंत डॉक्टर तक पहुंचा देता हैं।

Application of IoT in Hindi

इंटरनेट ऑफ थिंग्स की मुख्य ऍप्लिकेशन निम्न हैं-

IoT in Smart Home

स्मार्ट होम IoT ऍप्लिकेशन की सहायता से हम घरेलु उपकरणों को स्मार्ट फोन अथवा सेंसर की सहायता से कनेक्ट कर सकते हैं। इसकी सहायता से हम घर में आने से पहले घर कि Lights और AC चालू कर सकते है, और घर से निकलने के बाद उन्हें बंद कर सकते हैं। अगर आप अपने घर का door बंद करना भूल गए है और उस door में sensor लगा है तो थोड़े समय बाद सेंसर की मदद से door अपने आप बंद हो जायेगा और इसका मैसेज आपके स्मार्टफोन पर भी आ जाता हैं।

IoT Wearable Devices

Wearable टेक्नालजी वे सभी उपकरण जिन्हे हम पहन सकते है जैसे कि स्मार्ट क्लॉथ, स्मार्ट वॉच, स्मार्ट शूज आदि, ये सब उपकरण इंटरनेट ऑफ थिंग्स के अंतर्गत आती है। यह फिटनेस, हेल्थ और मनोरंजन के लिये उपयोगी होती हैं। आपने smart watch के बारे मे तो जानते ही होंगे।

उदाहरण- Samsung, Apple या Google कंपनी की smart watch जिसमे कई सारे फीचर्स होते है इन वॉच मे सेंसर लगे होते है जिसको आप अपने मोबाइल से कनेक्ट कर सकते है और जिम में वर्कआउट करते वक्त ईमेल, कॉल, सांग्स आदि का इस्तेमाल कर सकते है और साथ ही ये Smart Watch आपको आपकी सेहत के बारे में भी बताती हैं, जिससे आपको मोबाइल को बार-बार लेने की जरूरत नहीं पड़ती हैं।

IoT Industrial Internet

इंडस्ट्रियल सेक्टर मे इंडस्ट्रियल इंटरनेट की बड़ी चर्चा है जिसे इंडस्ट्रियल इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IIoT) कहा जाता है। इंडस्ट्रियल इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IIoT) का प्रयोग मशीनों को बनाने के लिए sensors, software, devices और बड़े data analytics के साथ डाटा कलेक्शन, एक्सचेंज एवं एनालाईज में बहुत उपयोगी है और यह इंडस्ट्रियल इंजीनियरिंग को मजबूत बनाने मे बड़ा योगदान दे रहा है। स्मार्ट मशीनें डाटा के माध्यम से संचार करने में मनुष्यों की तुलना में अधिक accurate और consistent रिजल्ट देती हैं।

IoT in Agriculture

इन्टरनेट ऑफ थिंग्स की सहायता से मौसम का अनुमान लगाया जा सकता हैं। IoT की सहायता से खाद्य- फल की उपलब्धता और आवष्यकता का रिकार्ड रखा जा सकता हैं। किसानों को अच्छी फसलों का उत्पादन करने के लिए मिट्टी की अच्छी गुणवत्ता महत्वपूर्ण होती है इसलिए इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IoT) किसानों को अपने मिट्टी की स्थिति की महत्वपूर्ण जानकारी पाने मे बहुत मदद करता है।

जैसे- मिट्टी का नमी, अम्लता का स्तर, कुछ पोषक तत्वों की उपस्थिति, तापमान और कई अन्य रासायनिक विशेषताओं का जानकारी, किसानों को सिंचाई नियंत्रित जानकारी, बुवाई शुरू करने के लिए सबसे अच्छा समय बताती है और यहां तक कि पौधों और मिट्टी की बीमारियों की उपस्थिति का भी पता लगाती है।

IoT in Connected Car

Connected Car वह व्हीकल है जो स्वयं का संचालन, रखरखाव के साथ-साथ ऑनबोर्ड सेंसर और इंटरनेट कनेक्टिविटी का इस्तेमाल करके यात्रियों के आराम के लिए अनुकूल होता हैं।

इन्टरनेट ऑफ थिंग्स का यह एप्लिकेशन कार के भीतर की फंक्शन को संचालित करने में सहायक होती है। इसकी सहायता से कार की स्पीड को कंट्रोल किया जा सकता है, दरवाजों को खोलने एवं बंद करने और लाईट्स को ऑन-ऑफ आदि कर सकते हैं।

अधिकांश बड़ी ऑटो निर्माता कंपनियां कनेक्टेड कार का समाधान पर काम कर रही हैं। जैसे- टेस्ला, बीएमडब्ल्यू, एप्पल, गूगल प्रमुख ब्रांड ऑटोमोबाइल में अगली नयी फ़ीचर्स लाने पर काम कर रहे हैं।

IoT in Smart City

स्मार्ट सिटी एक पावर फुल ऍप्लिकेशन है। इन्टरनेट ऑफ थिंग्स की सहायता से रोजमर्रा की परेशानियों जैसे जल, बिजली आपुर्ती, ट्रैफीक, क्राइम एवं पर्यावरण संबंधीत समस्याओं का निवारण किया जा सकता हैं। Internet Of Things की मदद से Web Application मे Sensor को इंस्टॉल करके उपलब्ध फ्री-पार्किंग के Slots पा सकते है।

IoT in Hospitals

Hospitals और health सेक्टर में इन्टरनेट ऑफ थिंग्स की महत्ता अतुलनीय हैं। हॉस्पीटल के इक्युप्मेंट और डाटा का ब्यौरा रखने के साथ-साथ मरीज के लक्षण और रिपोर्टस् का रिकार्ड रखा जाता हैं। IoT मरीज की स्थिती को मोनिटर करके किसी भी आपातकाल सुचना तुरंत डॉक्टर तक पहुंचाने में भी सहायक सिद्द होता हैं।

Features of IoT in Hindi

Connectivity: कनेक्टिविटी का मतलब है कि IoT प्लेटफॉर्म से IoT का सभी उपकरणों के बीच एक अच्छा कनेक्शन स्थापित करना है जो सर्वर या क्लाउड हो सकता है। IoT उपकरणों को जोड़ने के बाद विश्वसनीय, सुरक्षित और कम्युनिकेशन के लिए उपकरणों और क्लाउड के बीच हाई स्पीड डाटा संचार की आवश्यकता होती हैं।

Analyzing: IoT उपकरणों को कनेक्ट करने के बाद, डिवाइस में इकठ्ठा हुए डाटा का वास्तविक समय में विश्लेषण करके उसको business intelligence निर्माण के लिए उपयोग करते हैं।

Artificial Intelligence: IoT टेक्नोलॉजी Hardware, Calculation और Software के एक साथ आता है जो IoT डिवाइसो को स्मार्ट बनाता है। ये वातावरण में अपनी क्षमताओं को बढ़ाता है जो उपकरणों को किसी विशेष स्थिति में बुद्धिमान तरीके से आउटपुट देने में आसानी होती है।

Sensing: IoT टेक्नोलॉजी में इस्तेमाल किये जाने वाले sensor device मौसम में होने वाले परिवर्तन का पता लगाते हैं और उसकी स्थिति के अनुसार डाटा रिपोर्ट करते हैं। IoT technology एक्टिव नेटवर्क को सक्रिय नेटवर्क बनाता है। Sensor के बिना IoT वातावरण की स्थिति का इफेक्टिव या सही पता नहीं लगा सकता हैं।

Security: IoT devices सुरक्षा की नजर से स्वाभाविक रूप से असुरक्षित हैं क्योंकि कनेक्टिविटी डिवाइसो के माध्यम से संवेदनशील जानकारी को एंडपॉइंट से दूसरे डिवाइस तक इंटरनेट द्वारा पहुँचाया जाता है। इसलिए इससे सुरक्षा से जुड़ी समस्याओं को भूलना एक प्रकार की गलती होगी। IoT System को बनाते समय बेहतर सुरक्षा, सुरक्षा सम्बन्धी उपायों और फायरवॉल का इस्तेमाल करना होता है ताकि data का दुरुपयोग और data का हेरफेर होने से दूर रखा जा सके।

IoT के लक्षण (Characteristics Of IoT In Hindi)

IoT चार मुख्य मुलभूत घटक के साथ काम करता है-

Sensors: सेंसर अपने आस-पास के वातावरण से data एकत्रित करता है और इस एकत्रित data को साधारण तापमान की निगरानी से लेकर complex वीडियो भी प्रदान करता है। एक device में कई सेंसर लगे हो सकते हैं। सेंसर उदाहरण जैसे- GPS, Camera, Microphone, Temperature सेंसर आदि होते हैं।

Connectivity: Connectivity ट्रांसपोर्ट माध्यम का इस्तेमाल करके एकत्रित data को cloud पर भेजा जाता है। इसलिए सेंसर संचार के विभिन्न माध्यमों जैसे कि WiFi, Setellite Network, Bluetooth, Wide Area Network आदि द्वारा क्लाउड से कनेक्टेड होते हैं।

Data processing: Data processing में एकत्रित हुए डाटा cloud पर जाता है, सॉफ्टवेयर अधिग्रहण किये डाटा को प्रोसेसिंग करता है। यह बहुत आसान वस्तुओं से लेकर कुछ भी हो सकता है, जैसे उपकरणों पर temperature reading की जांच करना या बहुत कठिन वस्तुओं की पहचान करना इत्यादि।

User interface: डिवाइस की यूज़र्स इंटरफ़ेस पर जानकारी को end user के लिए एकत्रित की गई होती है। इसको alarm, text, email, message के जरिए सूचित किया जा सकता है। यदि दो डिवाइस आपस में कनेक्टेड हैं तो Actuators का इस्तेमाल किया जाता है।

IoT का उदाहरण (Internet of Things Examples in Hindi)

Smart Lock:
स्मार्ट लॉक को स्मार्ट वॉच या स्मार्ट फोन से कनेक्ट कर लेते हैं, और इन्ही उपकरणों की सहायता से इन स्मार्ट लॉक को लॉक और अनलॉक किया जाता हैं। इन्हे लॉक और अनलॉक करने के लिये अतिरीक्त चाभी की जरूरत नही होती है।

Automatic Car Tracking Adapter:
Automatic Car Tracking Adapter कार से संबंधित जानकारियों को ट्रैक करता हैं। यह डिवाइस वाहन की रनिंग हावर्स, ईंधन खपत, माईलेज, इग्निषन ऑन-ऑफ संबंधित जानकारियों को ट्रैक करके वाहन मालिक को सुचित करता हैं।

Smart Thermostat:
स्मार्ट थर्मोस्टेट घर की हिटींग और एयर कंडिशनरिंग के लिये उपयोगी हैं। इसे दिन भर के लिये सेड्यूल करके घर के तापमान को नियंत्रित कर सकते हैं, इसके अतिरिक्त इसे सेंसर या किसी एडिशनल डिवाइस जैसे कि स्मार्ट वॉच या स्मार्ट फोन की मदद से भी इस्तेमाल किया जा सकता हैं।

Activity Tracker:
एक्टिविटी ट्रैकर को फिटनेस ट्रैकर नाम से भी जाना जाता है। इस IoT ऍप्लिकेशन को स्मार्ट वॉच या स्मार्ट फोन में इंस्टाल किया जाता हैं। यह हमारी दिन भर की गतिविधीयों कों मॉनिटर करता हैं जैसे चलना, दौडना तथा इसके आधार पर स्वास्थ्य संबंधित अवलोकन करता है, जैसे- पल्स रेट, कैलोरी एवं कोलेस्ट्रोल आदि।

निष्कर्ष:

दोस्तों हमे उम्मीद है कि Internet Of Things In Hindi जानकारी पसंद आया होगा है जिसके साथ-साथ How IoT works in hindi, Application Of IoT In Hindi और Characteristics of IoT In Hindi के बारे में जानकारी प्राप्त हुई होगी।

यदि आपको इस पोस्ट Internet of Things (IoT) Kya Hai के बारे में कोई सवाल एवं सुझाव हो तो आप कमेन्ट करके जरूर बताये हम उसको हल करने की पूरी प्रयास करेंगे। अगर आपको इस पोस्ट (Iot Kya Hai) से सीखने को मिला तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों और सोशल मीडिया पर भी साझा कर सकते हैं, धन्यवाद।

6 thoughts on “What is IoT in Hindi | इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IoT) क्या है? | Tech Karya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *