Computer Virus kya hai – Computer virus in hindi | Tech Karya

By | July 26, 2020

आज हम Computer Virus के बारे मे बात करने वाले हैं की, Computer virus kya hai (what is computer virus in hindi), कंप्यूटर वायरस के कितने प्रकार है, इसके क्या लक्षण है, वायरस से बचने के तरीके क्या है, और कंप्यूटर में वायरस आने पर कैसे दूर करें या खत्म करें? इस पोस्ट में इन सभी के बारे में details में देखेंगे।

कंप्यूटर VIRUS का फुलफॉर्मVital Information Resources Under Seize होता हैं। computer virus एक ऐसा वाइरस है जो किसी भी तरीके अथवा माध्यम से computer और दुसरे किसी electronic gadgets में प्रवेश कर सकता हैं जिससे कम्प्युटर के hard drive की डाटा को नष्ट या चोरी कर सकता हैं और साथ ही किसी भी data या file को डिलीट कर सकता हैं। कंप्यूटर वाइरस (computer virus in hindi) एक तरह का सॉफ्टवेयर प्रोग्राम होता हैं, जो बहुत तेजी से computer मे फैलता हैं।

Computer वायरस से हर साल अरबों डॉलर की नुकसान पहुचाते है। अधिकांश वायरस का उद्देश्य सिस्टम को अपने नियंत्रण मे हासिल करके Microsoft विंडो को कंट्रोल करते हैं, इसलिए इस वायरस से मुकाबला करने के लिए, प्रोग्रामर ने एंटी-वायरस सॉफ्टवेयर बनाए।

Computer Virus Kya Hai

Computer Virus Kya Hai (Computer Virus in hindi)

आइये अब बात करते है Computer Virus Kya Hai“Computer virus एक प्रकार का malware होता है। यह एक सॉफ्टवेयर प्रोग्राम (software program) या कंप्यूटर कोड (Computer Code) का एक छोटा टुकड़ा होता है, जो कंप्यूटर में आटोमेटिक run होता हैं और आपके कंप्यूटर में आपके permission के बिना ही प्रवेश करके सिस्टम को संक्रमित कर देता है और आपके सिस्टम को बहुत हानि पहुंचाता हैं।”

कम्प्युटर वायरस इंटरनेट से फाइलें डाउनलोड करने, इनफेक्टेड वेबसाइट खोलने और इंटरनेट के जरिये फाइलों के आदान-प्रदान करने, executable files पर क्लिक करने, infected websites advertisement को खोलने या एक संक्रमित USB Drive के द्वारा एक सिस्टम से दूसरे सिस्टम में इस्तेमाल करने से भी फैलता हैं। ये वायरस आपके कंप्यूटर से महत्वपूर्ण डाटा फाइलों को डिलीट करके कम्प्युटर की Hard Disk storage को भी हानी पहुंचा सकता हैं।

जब भी आप कोई संक्रमित प्रोग्राम, फ़्लॉपी डिस्क, सीडी, USB ड्राइव या ई-मेल अटेचमेंट ओपन करते हैं तो वाइरस आपके सिस्टम मे प्रवेश करता है जो धीरे-धीरे कंप्यूटर में फैलकर पूरे हार्ड डिस्क स्पेस को घेर लेता हैं साथ ही डाटा को corrupt, delete या damage कर देता है और आपके कम्प्युटर की स्पीड को भी धीमा कर देता हैं।

कुछ हैकर्स गलत इरादे से “computer virus” को बनाते है और इंटरनेट के जरिये ऑनलाइन user को धोका देकर वाइरस को उनके सिस्टम मे पहुचा देते हैं और इनका उद्देश्य system को संक्रमित करके सिस्टम को अपने नियंत्रण मे हासिल करना और सवेंदनशील निजी डेटा को चोरी करना होता हैं।

कंप्यूटर वायरस के प्रकार (types of computer virus in hindi)

कंप्यूटर वायरस के कई प्रकार होते हैं, कंप्यूटर वायरस को उनके संक्रमण और व्यवहार के अनुसार बांटा गया हैं जिनमे से कुछ विशेष प्रकार के कंप्यूटर वायरस नीचे बताए गए हैं।

Boot Sector Virus

यह वायरस किसी भी डिवाइस या सिस्टम के मास्टर Boot sector को जड़ से संक्रमित करता है, और यह बार-बार ऑपरेटिंग सिस्टम लोड होने से पहले सिस्टम को excute कर देता है, जिससे ऑपरेटिंग सिस्टम खराब हो जाता हैं। इसे निकालने के लिए सिस्टम को फोर्मेट करना पड़ता है, यह आम तौर पर removable योग्य डिस्क या मीडिया के माध्यम से फैलता हैं।

File Virus

यह वाइरस computer की Executable File को नुकसान पहुचाता हैं, जिसे फ़ाइल वाइरस कहा जाता है। Executable File वो फ़ाइल होती है जो मुख्य रूप से सॉफ्टवेयर को install किया जाता है जैसे .EXE फ़ाइल को install करते समय वाइरस भी इसके साथ ही सक्रिय हो जाता हैं जो फ़ाइल को पूरी तरह से नुकसान पहुचाता हैं।

Polymorphic Virus

यह वाइरस encrypted malicious कोड का इस्तेमाल करता है जो सिस्टम मे छिपा होता हैं। यह एक जटिल वाइरस है इसलिए ये किसी एन्टी-वायरस सॉफ्टवेयर से पहचान पाना काफी मुश्किल होता हैं। इस प्रकार के वायरस अपने program को आसानी replicate करने में भी सक्षम होते हैं। कुछ Polymorphic Virus के नाम इस प्रकार है, जैसे Satan Bug, Tuareg, Marburg और Elkern.

Overwrite Virus

यह वाइरस आपके कम्प्युटर मे saved file को बदल (overwrite) देता है जो आमतौर पर फ़ाइलों को संक्रमित करके उन्हे delete कर देता हैं, हालांकि यह आपके सिस्टम के लिए हानिकारक नहीं है। इस वायरस को हटाने का एकमात्र तरीका संक्रमित फ़ाइल को पूरी तरह delete करना होता है, और इसके परिणामस्वरूप, आपके डाटा फ़ाइल गायब हो जाते हैं। ये वाइरस email के माध्यम से फैलते है जो कंप्यूटर उपयोगकर्ता को पता लगा पाना काफी चुनौतीपूर्ण होता है। इसलिए अनचाहे email attachment को खोलने से बचे।

Macro Virus

यह virus खासकर कुछ विशेष प्रकार के फ़ाइल जैसे- word processing और Spreadsheet एप्लिकेशन (MS Excel, MS Word) इत्यादि को नुकसान करने के लिए होते है। ये virus केवल ms office software की फाइलों को नुकसान पहुचाता हैं। उपयोगकर्ता द्वारा किसी संक्रमित document या spreadsheet को खोलने पर macro virus फैलता है। ये आमतौर पर ईमेल एटेचमेंट के द्वारा संचारित करता हैं। मैक्रो वायरस के सबसे सामान्य उदाहरण- Bablas, O97M/Y2K, Mellissa.A और Relax हैं।

Browser Hijacking Virus

यह Virus उपयोगकर्ता के अनुमति के बिना ही वेब ब्राउज़र की setting मे modify कर देता है जिसके बाद वो विभिन्न वेबसाइट पर redirect हो जाता है और एक अनचाहा विज्ञापन उपयोगकर्ता के वेब ब्राउज़र पर दिखाता है। उदाहरण- जब आप ब्राउज़र के address bar में कोई url डालते है तो browser hijacker virus आपको उस वेबसाइट पे जाने के बजाय दूसरी संक्रमित website पर पहुँचा देता हैं।

Web Scripting Virus

यह स्क्रिप्टिंग वायरस वेबसाइट के जरिये कुछ लुभावने advertisement, link, image placement, video अन्य के साथ जुड़े होते हैं, जिन्हे क्लिक करने पर malicious code आपके computer या अन्य डिवाइस पर अपने आप डाउनलोड हो जाता है या किसी संक्रमित website पर भी redirect कर सकता है, जिससे आपके ब्राउज़र से निजी डाटा चोरी हो सकता हैं।

Direct Action Virus

Direct action virus कंप्यूटर में एक विशेष प्रकार की फ़ाइल – .exe या .com extension वाली फाइलों से जुड़ा होता है। जब इस प्रकार की फ़ाइल पर action होता है, तो यह active हो जाता है और यह उसी तरह दूसरे समान फ़ाइलों या फोंल्डर को भी संक्रमित कर देता हैं। हालांकि यह वायरस इतना खतरनाक नही है इसे antivirus software की सहायता से हटाया जा सकता हैं।

कम्प्युटर वाइरस के लक्षण (What is symptoms of computer virus in hindi)

जैसा की अब आप समझ गए होंगे की Computer Virus Kya Hai और इसके कितने प्रकार हैं? यदि आपके computer में virus उपस्थित हो तो इसे कैसे जानेंगे या पता करेंगे? जब computer या mobile मे वायरस आ जाता है तो वह खुद हमे इशारा देने लगते हैं। आइये देखते हैं ऐसे ही कुछ लक्षण (symptoms) जिससे पता चल सके कि आपके computer में virus मौजूद हैं या नहीं-

  • अगर आपका कंप्यूटर सामान्य से अधिक slow या hang होता है तो ये वाइरस के लक्षण हो सकते हैं।
  • यदि Computer की स्क्रीन में बार-बार Pop-ups बॉक्स या मैसेज आता हैं तो वाइरस हो सकते हैं।
  • यदि आपकी internet की स्पीड कुछ समय से अधिक slow हो गयी हैं।
  • ब्राउज़र इस्तेमाल करने के समय यदि आपकी स्क्रीन पर error massage अथवा warning alert आता हैं तो ये वायरस हो सकता हैं।
  • यदि आपके कम्प्युटर मे किसी document या program नहीं खुल पा रहा हैं।
  • कंप्यूटर में आपकी अनुमति के बिना ही कोई प्रोग्राम या फाइल install हो जाना।
  • कंप्यूटर में unwanted files का अपने आप खुलना या उस फ़ाइल का अपने आप कॉपी हो जाना।
  • जब आपके ब्राउज़र मे बिना URL रिक्वेस्ट के कुछ वेब पेज डिस्‍प्‍ले हो रहा हो।
  • कंप्यूटर की मेमोरी जैसे RAM या hard disk का स्पेस खत्म हो जाना, जिससे सिस्‍टम क्रैश हो सकता हैं।
  • अगर आप नेटवर्क को कनेक्‍ट नहीं कर पा रहे अथवा CD-ROM या यूएसबी ड्राइव का इस्तेमाल नहीं कर पा रहे हो.

कंप्यूटर वायरस से बचने के उपाय (Protection from Computer Virus In Hindi)

वर्तमान मे अधिकतर हर कोई इंटरनेट और टेक्नालजी का इस्तेमाल करते है परन्तु ज्यादातर लोग इससे होने वाले खतरे से अभी नहीं जानते हैं, कैसे computer virus उनके सिस्टम मे महत्वपूर्ण डाटा को नुकसान पहुंचा सकता है, इसलिए इंटरनेट से खतरो के उपायों के बारे मे जरूर जानना चाहिए।

1) अपने कम्प्युटर मे premium antivirus इस्तेमाल करें क्योकि जब भी आप इंटरनेट से कनेक्ट होते हैं, वायरस, वर्म और ट्रॉजन हॉर्स का खतरा बढ़ जाता हैं, इसलिए अपने कंप्यूटर में एक अच्छा Anti-virus software का उपयोग करें।

2) किसी भी untrusted website और लिंक से document या third party application डाउनलोड ना करे।

3) जो Ads लिंक ऑफर का लालच दे रही हो की यहा पर क्लिक करो और Prize, मोबाइल या लॉटरी जीतो तो ऐसे advertisement पर कभी भी क्लिक मत करो क्योकि उसमे malware अथवा अन्य virus होने का ज्यादा खतरा रहता हैं।

4) अपने कंप्यूटर में Firewall स्थापित करें Firewall आपके कंप्यूटर से अन्य दूसरे कंप्यूटरो में होने वाले data के आदान-प्रदान को नियंत्रित करता हैं।

5) कंप्यूटर मे अनाधिकृत या पायरेटेड सॉफ़्टवेयर install नहीं करना चाहिए।

6) अज्ञात E-mail attachment से सावधान रहें, किसी भी email में दिए लिंक या advertisement पर क्लिक न करे यदि उस sender के बारे मे जानकारी ना हो।

7) अज्ञात ई-मेल अटैचमेन्ट के फाइल एक्सटेंशन को ध्यान से देखे, यदि एक्सटेंशन exe, pif, bat, cmd, cml, inf, js, msi, scr या vbs हैं, तो उस फाइल को वायरस-स्कैन किये बिना न खोलें।

8) कंप्यूटर से Hard Drive या Pendrive कनेक्ट करने से पहले आपके कंप्यूटर मे उपस्थित एंटी-वायरस से virus-scan कर ले अन्यथा संक्रमित पेनड्राइव आपके कंप्यूटर को हानि पहुंचा सकता हैं।

9) अगर आपके कम्प्युटर मे महत्वपूर्ण data store है, तो उसका backup जरूर रखे क्योकि कोई भी एन्टी-वायरस आपके डाटा को पूरा सौ प्रतिशत सुरक्षा नही देता हैं।

वायरस आने पर क्या करें? (What to do if virus infects)

उदाहरण के तौर पे मान लीजिए, इन सभी सुरक्षा-सम्बन्धी सावधानियां बरतने के बावजूद भी आपके computer में virus की समस्या आ जाती हैं तो ऐसी परिस्थिति में ये निम्न उपाय कीजिए-

1) यदि आपके कंप्यूटर में एन्टी-वायरस सॉफ्टवेयर है, तो उसके जरिये अपने पूरे सिस्टम को स्कैन कीजिए, जिससे पता चल सके की आपका कम्प्यूटर किस तरह वायरस से संक्रमित है।

2) यदि आपका वर्तमान anti-virus नये वायरसों को खोजने में असमर्थ है, तो अपने anti-virus software को अपडेट करे या नया एंटी-वायरस software स्थापित कीजिए फिर सिस्टम को स्कैन कीजिए.

4) यदि आपको अपने एन्टी-वायरस सॉफ्टवेयर की क्वालिटी पर संदेह है, तो Malware Byte या Super Anti Spyware नामक वेबसाइट के जरिये antivirus सॉफ्टवेर को डाउनलोड करके अपना कंप्यूटर स्कैन कीजिए, पर ध्यान रहे ये एंटी-वायरस paid हैं लेकिन इसका प्रीमियम वर्जन सिर्फ़ 14 दिन के लिए मुफ्त हैं।

3) यदि आप कोई free एंटी-वायरस को इन्स्टाल करके उसका उपयोग अपने कम्प्युटर में कर रहे है, तो यह उसकी कार्य क्षमता और सुरक्षा को बेहतर करने के बजाए और बिगाड़ सकता है, इसलिए सबसे अच्छा होगा की आपको कोई Paid-Antivirus का इस्तेमाल करना चाहिए। जैसे Quick Heal, Kaspersky internet security, McAfee, K7 antivirus, BitDefender इत्यादि।

5) यदि computer virus आपके डाटा और कंप्यूटर को ज्यादा हानि पहुचा चुका हो तो data वापस पाने और कंप्यूटर ठीक कराने के लिए किसी computer specialist से संपर्क कर सकते हैं।

Conclusion:

उम्मीद हैं इस पोस्ट के माध्यम से आप समझ गए होंगे की Computer Virus Kya Hai (What is computer virus in hindi) इसके प्रकार और इससे बचने के उपाय इत्यादि। computer virus क्या है, के बारे में वर्तमान में हर इंटरनेट उपयोगकर्ता को पता रहना चाहिए. अगर आपको ये पोस्ट (Computer Virus क्या है) से कुछ सीखने को मिला या पसन्द आया हैं तो इस पोस्ट को शेयर जरूर करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *