What is Intranet in Hindi | इंट्रानेट क्या है व इंट्रानेट कैसे काम करता है?

By | June 30, 2021

आज इस पोस्ट में, हमनें इंट्रानेट (Intranet) के विषय मे बात की है जिसमें, इंट्रानेट क्या है (What is Intranet in Hindi), इंट्रानेट के लाभ, इंट्रानेट की विशेषताएं, इंट्रानेट कैसे काम करता है तथा इंट्रानेट और इंटरनेट में अंतर क्या है? आदि विषयों की जानकारी शेयर की हैं, तो चलिये शुरुआत करते है तथा सबसे पहले जानते है कि, Intranet Kya Hai?

आधुनिक समय में, इंटरनेट ने जीवन को बहुत ही आसान कर दिया हैं और इसका इस्तेमाल दिन-व-दिन बढ़ता ही जा रहा हैं। आज सभी काम-काज इंटरनेट पर निर्भर हो गए हैं। चाहे शिक्षा, व्यापार, उद्योग, मनोरंजन, ऑनलाइन बुकिंग, कॉलेज, प्राइवेट या सरकारी ऑफिस संबंधी सभी काम इंटरनेट द्वारा किया जा रहा हैं। इंटरनेट के अधिक इस्तेमाल होने से Cyber Crime का खतरा भी ज्यादा बढ़ रहा हैं, इसलिए इन पर रोक लगाने के लिये इंट्रानेट और एक्सट्रानेट को उपयोग में लाया गया हैं। इंटरनेट की अपेक्षा इंट्रानेट को एक्सेस करना अधिक सुरक्षित हैं, क्योंकि ये एक प्राइवेट नेटवर्क होते हैं।

intranet kya hai meaning in hindi

वैसे यदि आपसे कोई Intranet के बारे में पूछता है कि, Intranet क्या है? तो शायद आप यही समझेंगे की पूछने वाला व्यक्ति Internet के बारे मे पूछ रहा हैं। परन्तु आपको ये जानकर आश्चर्य होगा कि Intranet और Internet एक समान नहीं हैं बल्कि इन दोनों का अर्थ अलग-अलग हैं। Intranet इंटरनेट का एक हिस्सा हैं, इंट्रानेट एक प्राइवेट नेटवर्क है तथा ये केवल कंपनी अथवा संगठन के अंदर Authorized लोगों द्वारा ही Accessible होता हैं। हालांकि, Internet पब्लिक नेटवर्क है जो वर्ल्ड वाइड वेब कोई भी एक्सेस कर सकता हैं।

इंट्रानेट की परिभाषा (Intranet Definition in Hindi)

Intranet Meaning in Hindi:- इंट्रानेट एक प्राइवेट कम्प्युटर नेटवर्क होता है और यह इंटरनेट का एक हिस्सा है, जो निजी तौर पर किसी बड़े कंपनी, फ़र्म या ऑर्गनाइज़ेशन के लिए इस्तेमाल किया जाता हैं। यह एक प्रकार का प्राइवेट कम्युनिकेशन इंटरनेट हैं, जहाँ सिर्फ इस प्राइवेट इंटरनेट से जुड़े कंप्यूटर ही कुछ निश्चित वेब Internet Protocol (IPs) एड्रेसों को ही Access कर सकते हैं। इसका प्राथमिक उद्देश्य कंपनी के अंदर कर्मचारियों को एक दूसरे से सुरक्षित रूप से बात करने, सूचनाओं को स्टोर व शेयर करने, दस्तावेजों फ़ाइलों को आसानी से सुरक्षित आदान-प्रदान करने और कंप्यूटिंग संसाधनों को साझा करने के लिए होता हैं। इंट्रानेट को Unauthorized एक्सेस से सुरक्षित रखने के लिए फ़ायरवॉल की आवश्यकता पड़ती है। फ़ायरवॉल Unwanted एक्सेस या ट्रैफिक को इंट्रानेट नेटवर्क में प्रवेश करने से रोकता हैं।

इंट्रानेट क्या है (What is Intranet in Hindi)

इंट्रानेट एक तरह का प्राइवेट नेटवर्क हैं जो कि स्टैंडर्ड Internet Protocol के तहत कार्य करता है, इसका उपयोग कोई भी कंपनी अपने कर्मचारियों के मध्य सुरक्षित रूप से जानकारी का आदान-प्रदान करने के लिए करता हैं। Intranet बड़ी कंपनी या फिर सरकार द्वारा उपयोग की जाती हैं ताकि आंतरिक संचार हो एवं कुछ भी डेटा लीक होकर बाहर न जाये एवं इसमे सेक्युरिटी का पूरा ध्यान रखा जाता है। कोई भी कंपनी इंट्रानेट का प्रयोग Software Based Network के माध्यम से करता हैं एवं इस Technology में पासवर्ड का उपयोग होता हैं, साथ ही VPN अर्थात Virtual Private Network का उपयोग इंट्रानेट के उपयोग के लिए करते है। इंट्रानेट के माध्यम से कंपनी का कोई भी डॉक्यूमेंट, इमेज, वीडियो, ऑडियो एवं फोल्डर आदि भेजने के लिए इंट्रानेट का उपयोग करते हैं क्योंकि यह पूर्ण रूप से सुरक्षित होता हैं।

इंट्रानेट और इंटरनेट ये दोनों नाम लगभग एक समान मिलता-जुलता लगता है, इसलिए अधिकतर लोग इन दोनों नामों को एक ही समझकर भ्रमित हो जाते हैं, जबकि दोनों एक समान नहीं हैं, इनमे बहुत से असमानताएं है जैसे, इंटरनेट एक पब्लिक नेटवर्क होता हैं, जो की दुनिया के सभी कंप्यूटरों को वर्ल्ड वाइड वेब जोड़ने करने का कार्य करता हैं एवं इसे कहीं से भी एक्सेस किया जा सकता है। जबकि इंट्रानेट एक सॉफ्टवेयर है, जिसका इस्तेमाल बड़े-बड़े संस्थानों तथा ऑर्गनाइज़ेशन के अंदर निजी तौर पर डाटा शेयरिंग या कंप्यूटिंग संसाधनों को साझा करने हेतु किया जाता हैं। इंट्रानेट को एक्सेस करने के लिए Authenticated Login की आवश्यकता होती हैं क्योंकि इंट्रानेट ऑर्गनाइज़ेशन का कोई एक निजी तौर पर मालिक होता हैं। इंट्रानेट को Unauthorized एक्सेस से सुरक्षित रखने के लिए फ़ायरवॉल की आवश्यकता पड़ती है। फ़ायरवॉल Unwanted एक्सेस या ट्रैफिक को इंट्रानेट नेटवर्क में प्रवेश करने से रोकता हैं।

इंट्रानेट की विशेषताएं (Features of Intranet in Hindi)

यहाँ, इंट्रानेट की कुछ महत्वपूर्ण विशेषताएं निम्न हैं:-

  • इंट्रानेट काफी तेज और सटीक हैं
  • फ़ायरवॉल इंट्रानेट नेटवर्क को बाहरी खतरों से बचाता हैं
  • संगठन के साथ निगरानी करना काफी आसान हैं
  • सभी लेवल पर कंपनी के अंदर कम्यूनिकेट करने मे आसानी होती हैं
  • सुझावों और चर्चाओं को शेयर करने मे मदद मिलता हैं
  • बड़े ग्राफिकल इमेज, वीडियो, ध्वनि और फ़ाइल्स वाली वेबसाइट अधिकतर इंट्रानेट पर तेजी से प्रोसेस करती हैं
  • इंट्रानेट कंटेन्ट को क्लाउड में स्टोर किया जा सकता है, जिससे फ़ाइलों को एक्सेस करने में समय बचता हैं

इंट्रानेट का अनुप्रयोग (Application of Intranet in Hindi)

यहाँ, इंट्रानेट के कुछ महत्वपूर्ण एप्लिकेशन निम्न हैं:-

  • कंपनी के Rules/Regulations, Updates और Policies का विवरण साझा करना
  • कंपनी के कर्मचारी डेटाबेस को एक्सेस करना
  • प्रॉडक्ट और कस्टमर डेटा को एक्सेस करना
  • कुछ सामान्य सूचनाएं या फ़ाइल शेयर करना
  • इंट्रानेट व्यक्तिगत या विभाग-विशिष्ट होम पेज लॉन्च करने हेतु प्रयोग करना
  • रिपोर्ट फ़ाइल सबमिट करना
  • कॉर्पोरेट टेलीफोन निर्देशिका उपयोग
  • इलेक्ट्रॉनिक संसाधनों साझा हेतु सॉफ्टवेयर एप्लिकेशन, टेम्प्लेट और टूल प्रदान करना
  • इंटरएक्टिव कम्युनिकेशन के लिए ई-मेल, चैट, न्यूज़ फीड जैसे एप्लिकेशन का प्रयोग

इंट्रानेट के लाभ (Benefits of Intranet in Hindi )

वर्तमान समय मे इंट्रानेट के मायने बदल रहा हैं, सभी प्राइवेट कंपनियां Intranet की ओर बढ़ रही हैं क्योंकि यह काफी फास्ट एवं सिक्योर होता है। इस नेटवर्क में किसी तरह साइबर क्राइम का खतरा नहीं होता है, आज के समय मे इंट्रानेट के उपयोग या अनेक लाभ निम्न हैं-

• कंपनी के इंट्रानेट पर डाटा किसी भी समय उपलब्ध होता हैं तथा इसे कंपनी Workstation का इस्तेमाल करके कभी भी एक्सेस कर सकती हैं। इससे कर्मचारियों को काम करने में तेजी और उत्पादकता बढ़ाने मे मदद मिलती हैं।

• इंट्रानेट बड़े कंपनी या ऑर्गनाइज़ेशन के अंदर सस्ता और सुविधाजनक सुरक्षित Communication प्रोवाइड करता हैं। कंपनी के अंदर कर्मचारी Chat, Blog या Email का इस्तेमाल करके Communicate कर सकते हैं।

• कम्युनिकेशन डेवेलप होने में सहायक है, इंट्रानेट के माध्यम से कर्मचारी आसानी से एक दूसरे के साथ डॉक्यूमेंट व फ़ाइल का आदान-प्रदान कर सकते है इससे पारदर्शिता बना रहेगा व अपने किसी भी कर्मचारी को कुछ भी भेजने में खतरा नही होगा।

• इंट्रानेट इन्फॉर्मेशन हब के रूप में आगे बढ़ रहा हैं, क्योकि आज के समय मे सभी को अपना डेटा सुरक्षित रखना है ऐसे मे बहुत से बड़े-बड़े कंपनी निजी डेटा को सुरक्षित रखने के लिए इंट्रानेट का उपयोग करते है ऐसे में इंट्रानेट इन्फॉर्मेशन हब बनने की ओर अग्रसर हैं।

• चूंकि इंट्रानेट पर शेयर की गई जानकारी केवल एक ऑर्गनाइज़ेशन के अंदर ही एक्सेस किया जा सकता है, इसलिए डाटा चोरी होने या लीक होने की संभावना लगभग ना के बराबर होती हैं।

• Intranet के माध्यम से वेब होस्टिंग में सहायक हुआ हैं, आज के समय मे वेब वर्किंग के लिए इंट्रानेट का उपयोग करते है इसके साथ ही एम्‍ल्‍पॉइ मैनुअल, बेनिफिट डॉक्‍युमेंट, ट्रैनिंग वर्क, कंपनी पॉलीसी, बिजनेस स्‍टैंडर्ड व न्‍यूज फ़ीड आदि के लिए इंट्रानेट काफी मददगार हैं।

• इंट्रानेट वर्तमान समय मे काफी लाभदायक है, अब कोई भी कंपनी अपना बिजनेस स्टार्ट कर रहा है तो वह खुद का इंटरनेट एक्सेस लेकर आ रहा है, ऐसे में इंट्रानेट की मदद सरलता लाने में उपयोग कर रहे हैं।

इंट्रानेट कैसे काम करता है (How does an Intranet Work in Hindi )

इंट्रानेट स्थापित करने के लिए एक सुरक्षित और विश्वसनीय Web Server की आवश्यकता पड़ती हैं जो Server पर होस्ट की गई फ़ाइलों के लिए सभी Request का संचालन करने, Requested फ़ाइल को सर्च करने और उसे उचित कंप्यूटर तक पहुंचाने की जिम्मेदारी होती हैं। इंट्रानेट पर कंटेंट निर्माण, प्रकाशन और मैनेजमेंट को नियंत्रित करने के लिए एक कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम (CMS) भी स्थापित करने की जरूरत पड़ती हैं। इंट्रानेट आपस में इंटरलिंक्ड कई लोकल एरिया नेटवर्क (LANs) से मिलकर बनी होती हैं तथा इसके साथ-साथ वाइड एरिया नेटवर्क (WAN) में लीज्ड लाइनें भी हो सकती हैं। यह TCP/IP, HTTP और दूसरे इंटरनेट प्रोटोकॉल (IP) का प्रयोग करती है। जब कोई कर्मचारी Intranet इस्तेमाल करना चाहता है तो उसके पास एक विशेष नेटवर्क पासवर्ड होना चाहिए और LAN से जुड़ा रहना चाहिए। हालांकि, कंपनी से दूर काम करने वाला कर्मचारी भी वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (VPN) के जरिये इंट्रानेट को एक्सेस कर सकता हैं।

इंट्रानेट एक तरह का इंटरनेट ही होता है, परन्तु नेटवर्क स्पीड व सुरक्षा के हिसाब से इंट्रानेट काफी फ़ास्ट व सुरक्षित और प्राइवेट होता हैं, इंट्रानेट में डेटा ट्रांसमिशन VPN के माध्यम से होता हैं जैसे ही हम वेब ब्राउज़र या गूगल में कुछ भी सर्च करते है तो वेब होस्टिंग के माध्यम से VPN हमेशा 24×7 उच्च बैंडविथ व उच्च Frequency Network प्रदान करता हैं एवं जो भी सर्च करते है वह स्क्रीन में ओपन हो जाता है एवं पूर्ण रूप से सुरक्षित होता है, सर्च करने वाला क्लाइंट जो सर्वर से डाटा प्राप्त करता है, जैसे ही क्लाइंट कुछ भी सर्च करता है तो सर्वर को सूचना भेजा जाता हैं वहाँ से सेंकड भर में अप्रूवल आ जाता हैं एवं जिस भी कंप्यूटर में सर्च किया जाता हैं उसका IP Address में ट्रांसमिशन होता है व इन्फर्मेशन तुरंत मिल जाता है, इंट्रानेट अधिकतर LAN, MAN व WAN होता है जो सभी कंप्यूटर को एक साथ जोड़ता है एवं फ़ाइल तक पहुँच प्रदान करता हैं।

इंट्रानेट और इंटरनेट में अंतर (Difference Between Internet and Intranet in Hindi)

Intranet और Internet के बीच कुछ अंतर निम्न प्रकार हैं:

Sr. No.IntranetInternet
1निजी स्थानीय नेटवर्क हैपब्लिक वर्ल्ड वाइड नेटवर्क है
2सिर्फ संगठन प्रमाणित व्यक्ति ही एक्सेस कर सकता हैपब्लिकली कोई भी एक्सेस कर सकता है
3बहुत अधिक लागत होती हैकम लागत होती है
4अधिक सुरक्षित हैकम सुरक्षित है
5सीमित यूजर्स की संख्या होती हैअसीमित यूजर्स की संख्या होती है
6अधिक विश्वसनीय हैकम विश्वसनीय है
7सीमित ही जानकारी उपलब्ध होती हैअसीमित जानकारी उपलब्ध होती है

इंट्रानेट के उदाहरण (Example of Intranet in Hindi)

वर्तमान समय मे बड़े-बड़े कंपनी व फर्म इंट्रानेट का उपयोग कर रहे है क्योंकि यह बहुत ही सरलता से अच्छा सुविधा प्रदान करता है, यह इंटरनेट का एक हिस्सा हैं जो कि किसी भी कंपनी को स्वामित्व प्रदान करता है। इसका उपयोग केवल संगठन के निश्चित सदस्य ही कर सकते है क्योंकि अलग-अलग कंपनी का अलग-अलग भाषा व प्रोग्रामिंग होता है, ऐसे मे इंट्रानेट काफी मददगार है। हेल्थ सेक्टर में Intranet का उपयोग किया जाता है एवं दुनिया के किसी भी कोने में बैठे डॉक्टर की मदद से दूसरे डॉक्टर काम करता हैं और साथ ही फ़ाइनेंस टेक्नालजी में भी इंट्रानेट का काफी चलन है, इससे कॉरपोरेट में किसी तरह का खतरा न आये, ऐसे में इंट्रानेट को महत्व दिया जाता हैं।

इंट्रानेट में किसी तरह का वेब स्पेस की जरूरत नही होता है जो भी स्टोर करना होता है वह सर्वर करता है, क्योकि इसका उपयोग सीमित व छोटे पैमाने में किया जाता है। जनरल काम जैसे ट्रेवल में इंट्रानेट काफी उपयोगी है, HR मे काफी अहम रोल है इंट्रानेट का क्योकि यह अच्छे से वर्क करता है। IT Sector इंट्रानेट का काफी बड़ा उदाहरण है वर्तमान समय मे IT फर्म अपना खुद का Internet उपयोग करता है ताकि डेटा सेफ व सिक्योर रहें। Non-Profit Intranet का भी उपयोग एक अच्छा उदाहरण है, आज के समय मे शिक्षा के लिए भी Intranet का उपयोग किया जा रहा है। रीयल एस्टेट सेक्टर मे इंट्रानेट का इस्तेमाल होता हैं क्योंकि उसका बजट अच्छा होता है व डेटा को सुरक्षित रखना होता है इसलिए इसमें इंट्रानेट का उपयोग किया जाता हैं।

निष्कर्ष:

उम्मीद करता हूँ की आज की यह पोस्ट, इंट्रानेट क्या है (What is Intranet in Hindi) पसंद आई होगी। इसके साथ ही आपको Difference Between Internet and Intranet in Hindi, इंट्रानेट के लाभ, इंट्रानेट कैसे काम करता है इत्यादि की जानकारी आपको मिली। आशा है कि मेरे द्वारा दी गयी जानकारी Intranet Kya Hota Hai आपके लिए ज्ञानवर्धक व उपयोगी साबित होगी।

Intranet Details In Hindi जानने के लिए इस पोस्ट की मदद जरूर ले ताकि इंट्रानेट और इंटरनेट क्या है (What Is Internet and Intranet In Hindi) अच्छे से जान पायें। आपको यह पोस्ट कैसा लगा, नीचे कमेंट करके हमें जरूर बतायें। अगर इस पोस्ट से संबंधित कोई सुझाव एवं सवाल हो तो कमेन्ट जरूर करें, हम उसे जरूर पूरा करेंगे। यदि पोस्ट अच्छा लगा हो तो ज्यादा से ज्यादा अपने दोस्तों और सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें ताकि उन सबको भी यह जानकारी पहुच सकें, धन्यवाद!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *