What is Calculator in Hindi | कैलकुलेटर क्या है और कैलकुलेटर के प्रकार

By | July 24, 2022

नमस्कार दोस्तों, आप सभी का स्वागत है। आज हम बात करेंगे की कैलकुलेटर क्या है (What is calculator in hindi), कैलकुलेटर के प्रकार और उपयोग इत्यादि। वर्तमान समय में अनेक तरह के कैलकुलेशन को एक सेकेंड में सॉल्व कर लिया जाता है, आज के समय में अनेक तरह के कैलकुलेटर मार्केट में उपलब्ध है जिसका उपयोग लोग करते है, समय के साथ कैलकुलेटर का विकास हुआ है। आज हम इस पोस्ट में कैलकुलेटर के बारे में जानकारी बता रहे है, यदि आप Calculator से संबंधित किसी भी तरह की जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तब आपको इस पोस्ट में कैलकुलेटर से संबंधित सभी जानकारी मिल जाएगी।

What is Calculator in Hindi

कैलकुलेटर क्या है (What is Calculator in Hindi)

कैलकुलेटर को हिंदी में गणक, और परिकलक कहते है, तथा यह एक गणितीय गणनाएं करने वाला यंत्र होता है, इसका उपयोग अक्सर बड़े बड़े कैलकुलेशन को सॉल्व करने के लिए किया जाता है। कैलकुलेटर का उपयोग वर्तमान समय में कंप्यूटर के अपेक्षा छोटी गणना करने के लिए किया जाता है, कंप्यूटर में विस्तृत और कठिन समस्या को सॉल्व किया जाता है, वही कैलकुलेटर में छोटे गणना किया जाता है जो कि वृस्तित हो और जटिल होता है। कैलकुलेटर के प्रयोग के लिए प्रोग्रामिंग की आवश्यकता नहीं होती है, और यह बहुत सस्ता और आकार में छोटा होता है।

आधुनिक कैलकुलेटर के पूर्व गणना करने के लिये स्लाइड रूल, गणितीय सारणियाँ, अबाकस आदि प्रयोग में लाया जाता था, और इन सबका प्रयोग कैलकुलेटर की तुलना में अपेक्षाकृत बहुत असुविधाजनक होता था, पर आधुनिक परिकलक विद्युत शक्ति (छोटे शुष्क सेल आदि) से चलते हैं और सस्ते, छोटे, अनेक जटिल गणनाओं की क्षमता वाले, सरलता से काम करने वाले और तेज गणना में दक्ष होता है, इसी कारण आज के समय में आधुनिक कैलकुलेटर का उपयोग किया जाता है और पहले की तरह गणना नही किया जाता है।

कैलकुलेटर के प्रकार (Types of Calculator in Hindi)

वर्तमान समय में कैलकुलेटर एक ऐसा टूल या एक एसी मशीन है, जिसने आज के समय में जटिल गणनाओं को बहुत आसान बना दिया है, कम समय में अनेक छोटी सी छोटी और बड़ी बड़ी से गणना को सेकंड में कर देती है, आज के समय में कैलकुलेटर का अनेक प्रकार है जिसका उपयोग वर्तमान समय में अलग अलग क्षेत्र में किया जाता है, सभी कैलकुलेटर का अलग अलग गुण है, लेकिन वर्तमान समय में कैलकुलेटर 5 प्रकार के है, जिसका उपयोग अधिकतर क्षेत्र में किया जाता है, आज के समय में निम्न 5 कैलकुलेटर का उपयोग किया जाता है–

1. मूल कैलकुलेटर
2. वैज्ञानिक कैलकुलेटर
3. प्रिंटिंग कैलकुलेटर
4. ऑनलाइन कैलकुलेटर
5. ग्राफिंग कैलकुलेटर आदि।

मूल कैलकुलेटर

इस कैलकुलेटर में मुख्य रूप से नंबर और कुछ साइन होता है, जिसका प्रयोग जोड़ना, घटना, गुणा, भाग और प्रतिशत निकालने के लिए किया जाता है।

वैज्ञानिक कैलकुलेटर

इस कैलकुलेटर का उपयोग गणित, विज्ञान और इंजीनियरिंग में उन्नत कार्यों की गणना के लिए किया जाता है, आज के समय में वैज्ञानिक कैलकुलेटर सर्वाधिक प्रयोग में लाया जाता है।

प्रिंटिंग कैलकुलेटर

पहले के समय में घरों में पर्सनल कंप्यूटर नहीं हुआ करता था, तब इन्ही कैलकुलेटर्स का प्रयोग किया जाता था, और यह एक प्रकार के बेसिक कैलकुलेटर होता हैं, जो किसी भी परिणाम को एलसीडी पर एक पेपर पर प्रिंट करता है।

ऑनलाइन कैलकुलेटर

वर्तमान समय में अनेक तरह के कैलकुलेटर्स को इन्टरनेट पर आसानी से एक्सेस किया जा सकता हैं, और उसका उपयोग किया जाता है, इन्हें अधिकतर विशेष कार्यों में ही प्रयोग किया जाता हैं, और एक उदाहरण लिया जाए – तब BMI (Body Mass Index) कैलकुलेटर्स वजन तथा ऊचाई लेकर बॉडी इंडेक्स को मापने का कार्य करता है और ऑनलाइन एज कैलकुलेटर (Age Calculator) जिसमे हम अपना उम्र कितना साल हुआ है ये सब डिटेल्स मे जान सकते हैं।

ग्राफिंग कैलकुलेटर

आज के समय में ग्राफ़िक कैलकुलेटर हाई resolution एलसीडी स्क्रीन तथा सबसे कठिन ग्राफ़िक्स व तेजी से गणना करने के लिए आज के समय में सीपीयू के साथ प्रयोग में लाया जाता है। इसमें डेटा स्टोर करने की सुविधा भी होती है।

कैलकुलेटर के अंदर क्या होता है?

यदि आप आज के समय में 19 वी सदी के आसपास बने कैलकुलेटर का को खोल कर देखते तब उसके अंदर आपको precision gears, axles, rods, और levers आदि चीजे मिल जाता, जिन्हे अच्छे तरह से फिक्स किया जाता था, और आप ओपन करते तब उसे इधर उधर क्लिक करते मिल जाता था, whirll भी करते रहता था, जब नंबर टाइप करते तब, लेकिन वर्तमान समय का कैलकुलेटर पहले के कैलकुलेटर से बहुत ज्यादा भिन्न है, और आज के समय में आधुनिक कैलकुलेटर का उपयोग करते है, और इन कैलकुलेटर के अंदर निम्न चीजे पाया जाता है –

• Input : कीबोर्ड होता है , जिसमें 40 से ज्यादा छोटे छोटे किस होता है, जिसके नीचे रबर मेंब्रेम होता है, और यह टच सेंसिटिव सर्किट होता है।
• Processor : एक मोर्कोचिप होगा है, जो की सभी हार्ड वर्क को करता है, लेकिन पहले के कैलकुलेटर में gears करता था।
• Output : इसमें liquid crystal display (LCD) में रिजल्ट आता है, हम जो भी कैलकुलेशन करते है, जो भी टाइप करते है उसका आउटपुट LCD में मिलता है।
• power source : इसमें लॉन्ग लाइफ बैटरी का उपयोग किया जाता है, जो की लंबे समय तक चले और अक्सर button cell का उपयोग किया जाता है, पहले कैलकुलेटर को सोलर सेल का उपयोग किया जाता था।

कैलकुलेटर का इतिहास (History of Calculator in Hindi)

कैलकुलेटर का इतिहास बहुत पुराना है, और सबसे पहले जो साधारण कैलकुलेटर अस्तित्व मे आया था वह पूर्ण: रूप से यांत्रिक (मेकैनिकल) था, जिसका उपयोग करना थोड़ा कठिन था पर आसानी से गणना किया जा सकता था, और इसके बाद वैद्युत-यांत्रिक (एलेक्ट्रोमेकैनिकल) कैलकुलेटर का अविष्कार हुआ है, फिर इसके बाद वाल्व तकनीक पर आधारित कैलकुलेटर दुनिया में आया है, और फिर ट्रांज़िस्टर तथा फिर एकीकृत परिपथ (आई.सी) आधारि कैलकुलेटर आया है, और वर्तमान समय में इन कैलकुलेटर का उपयोग होने लगा है, जिसका उपयोग कोई भी आसानी से कर सकता है।

आज के समय में कैलकुलेटर हार्डवेयर या सॉफ्टवेयर; यांत्रिक या इलेक्ट्रॉनिक हो सकते हैं। और कुछ कैलकुलेटर अन्य उपकरणों में मौजूद होता है, जैसे पी.डी.ए, लैपटॉप, तथा मोबाइल फोन आदि में मौजूद कैलकल्टर, इसका उपयोग आसानी से किया जा सकता है। सामान्य प्रयोग कैलकल्ट के अलावा विशेष डिजाइंड के कैलकुलेटर भी आज के समय में मिलता है, जैसे वैज्ञानिक कैलकुलेटर जिनमें सामान्य गणित हणनाओं के संग कुछ जटिल गणनाएं जैसे त्रिगुणमितीय तथा सांख्यिकीय गणनाएं भी संभव हो जाता है, और आज के समय में वैज्ञानिक कैलकुलेटर का चलन बढ़ गया है। अनेक कैलकुलेटर में में कंप्यूटरीय बीजगणित को सॉल्व करने की क्षमता होती हैं। और वर्तमान समय में ग्राफ़िक परिकलक ग्राफ प्रकार्य तथा उच्च आयाम के यूक्लिडियन स्पेस की गणनाएं भी उपलब्ध कराते हैं, जिससे कैलकुलेटर का उपयोग करना आसान हो जाता है।

वर्तमान समय में आधुनिक कैलकुलेटर का उपयोग किया जा रहा है, और अधिकांश में निम्न कुंजियां उपलब्ध होती हैं: 1,2,3,4,5,6,7,8,9,0,+,-,×,÷ (/),.,=,%, एवं ± (+/-)। तथा कुछ कैलकल में में लेखा उपयोक्ताओं के लिये 00 और 000 कुंजी भी हो सकतीं हैं, और इनसे बड़ी गणनाओं के टंकण में सुविधा होती है, इस तरह से कैलकुलेटर का अस्तित्व है।

कैलकुलेटर का उपयोग (Use of Calculator in Hindi)

वर्तमान समय में यदि आपके पास कैलकुलेटर है और आप इसका उपयोग करना चाहते है तब आप आज के समय में कैलकुलेटर का निम्न उपयोग कर सकते है–

• इसकी मदद से आसानी से बड़े से बड़े संख्या का जोड़ना, घटना, गुणा और भाग आदि आसानी से कर सकते है।
• कैलकुलेटर के मदद से आसानी से प्रतिशत, ब्याज दर, और अन्य गणना कर सकते है।
• कैलकुलेटर का उपयोग करके आप आसानी से बीज गणित के प्रश्न सॉल्व कर सकते है, इसके मदद से त्रिकोणमिति, सांख्यिकीय, और लॉग से संबंधित प्रश्न सॉल्व कर सकते है।
• कैलकुलेटर के मदद से अवकलन और समाकलना कर सकते है।
• गणित के बड़ी से बड़ी समस्या का समाधान आप कैलकुलेटर के मदद से कर सकते है।
• आप कैलकुलेटर के मदद से किसी तरह की लाभ हानि की गणना कर सकते है।
• कैलकुलेटर में आप किसी भी तरह की गणना सेकंड में कर सकते है।
• वैज्ञानिक कैलकुलेटर के मदद से आसानी से बड़े से बड़े थियोराम को सॉल्व किया जा सकता है।
• वैज्ञानिक कैलकुलेटर के मदद से घात तथा संख्याओं का वैज्ञानिक निरूपण आसानी से कर सकते है।
• आज के समय में ग्राफीय परिकलित्रों का उपयोग अधिक होता है।

कैलकुलेटर का मुख्य 5 प्वाइंट:

वर्तमान समय में अधिकतर लोग कैलकुलेटर का उपयोग करते है तथा कैलकुलेटर का मुख्य 5 प्वाइंट निम्न है–

• हम आपको बता दे की वैसे तो कैलकुलेटर की उपयोग 17 वी शताब्दी में हुआ करता था लेकिन उस समय नंबरों की गणना करने के लिए मैकेनिकल कैलकुलेटर बनाया गया था, जिसका आविष्कार 1642 ईस्वी मेंविल्हेम शिकार्ड द्वारा किया गया था, और जिसका नाम उन्होंने ब्लेज पास्कल रखा था।
• इलेक्ट्रॉनिक कैलकुलेटर का आविष्कार 1967 में हुआ है, और टेक्सास इंस्ट्रूमेंट्स की एक टीम ने इस आविष्कार से दुनिया में क्रांति ला दी है।
• वर्तमान समय में कैलकुलेटर के मुख्य अंग Keyboard, Microchip, LCD व Battery होता है।
• कैलकुलेटर का प्रयोग सामान्य तौर पर गणना करने के लिए किया जाता है, आज के समय में बीजगणित के प्रश्न को हल करने के लिए भी किया जाता है।
• कैलकुलेटर एक छोटी डिवाइस है, लेकिन इसका उपयोग बड़े से बड़े कैलकुलेशन को सॉल्व करने के लिए किया जाता है।

निष्कर्ष:

तो दोस्तो कैसे लगी कैलकुलेटर के बारे मे जानकारी, इस ब्लॉग मे मैंने बताया की, कैलकुलेटर क्या है (What is calculator in hindi), इसके प्रकार और उपयोग आदि। दोस्तों आपको यह ब्लॉग (Calculator kya hota hai) कैसी लगी, हमे कमेंट करके अवश्य बताये, आपके सलाह व सुझावों का भी स्वागत रहेगा। यदि आपको ये कैलकुलेटर की जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने मित्रों और सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें! आप हमें अधिक जानकारी के लिए Facebook, Insta, LinkedIn व Twitter पर फॉलो भी कर सकते है, धन्यवाद!

Leave a Reply

Your email address will not be published.